srimandir playstore link
श्री चित्रगुप्त जी की आरती

श्री चित्रगुप्त जी की आरती

करें श्री चित्रगुप्त जी की आरती


श्री चित्रगुप्त जी की आरती का महत्व

हिंदू धर्म में भगवान चित्रगुप्त जी की पूजा का बड़ा ही विशेष महत्व है। भगवान चित्रगुप्त की पूजा भक्तों को नरक की पीड़ाओं और यातनाओं से मुक्ति दिलाती है। भगवान चित्रगुप्त की पूजा से यश और वंश में वृद्धि होती है। सनातन धर्म में भगवान चित्रगुप्त को धर्माधिकारी की उपाधि दी गई है। चित्रगुप्त जी की आरती से मानव जीवन में हुए पापों से मुक्ति मिलती है। चित्रगुप्त जी की आरती करने से साधक को सभी इच्छित फल मिलते हैं।

श्री चित्रगुप्त जी की आरती

ॐ जय चित्रगुप्त हरे, स्वामी जय चित्रगुप्त हरे। भक्त जनों के इच्छित,फल को पूर्ण करें॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

विघ्न विनाशक मंगलकर्ता,सन्तन सुखदायी। भक्तन के प्रतिपालक,त्रिभुवन यश छाई॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

रूप चतुर्भुज,स्यामल मूरति, पीताम्बर राजै। मातु इरावती,दक्षिणा, वाम अङ्ग साजै॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

कष्ट निवारण, दुष्ट संहार,प्रभु अन्तर्यामी। सृष्टि संहार, जन दुःख हरण,प्रकट हुए स्वामी॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

कलम, दवात, शङ्ख,पत्रिका, कर में अति सोहे। वैजयन्ती वरमाला,त्रिभुवन मन मोहे॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

सिंहासन का कार्य संभाला,ब्रह्मा हर्षाये। तैंतीस कोटि देवता,चरणन में धाये॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

नृपति सौदास, भीष्म पितामह,याद तुम्हें कीन्हा। वेगि विलम्ब न लावो,इच्छित फल दीन्हा॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

दारा, सुत, भगिनी,सब अपने स्वास्थ्य के कर्ता। जाऊँ कहाँ शरण में किसकी,तुम तज मैं भर्ता॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

बंधु, पिता तुम स्वामी,शरण गहूं किसकी। तुम बिन और न दूजा,आस करूं जिसकी॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

जो जन चित्रगुप्त जी की आरती,प्रेम सहित गावे। चौरासी से निश्चित छूटे,इच्छित फल पावै॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

न्यायाधीश वैकुण्ठ निवासी,पाप पुण्य लिखते। हम हैं शरण तिहारी,आस न दूजी करते॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

,
background
background
background
background
srimandir
अपने फोन में स्थापित करें अपना मंदिर, अभी डाउनलोड करें।
© 2020 - 2022 FirstPrinciple AppsForBharat Pvt. Ltd.
facebookyoutubeinsta