राधाष्टमी विशेष श्री राधारानी महाभिषेक पूजा
राधाष्टमी विशेष श्री राधारानी महाभिषेक पूजा
राधाष्टमी विशेष श्री राधारानी महाभिषेक पूजा
राधाष्टमी विशेष श्री राधारानी महाभिषेक पूजा

राधाष्टमी विशेष श्री राधारानी महाभिषेक पूजा

temple venue
श्री राधारानी मंदिर, बरसन, वृन्दावन
pooja date
Warning Infoइस पूजा की बुकिंग बंद हो गई है
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
अब तक2,00,000+भक्तोंश्री मंदिर द्वारा आयोजित पूजाओ में भाग ले चुके हैं

राधाष्टमी विशेष श्री राधारानी महाभिषेक पूजा

हिन्दू पंचांग के अनुसार भाद्रपद शुक्ल अष्टमी को राधाष्टमी का व्रत-पर्व मनाया जाता है। भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव यानि जन्माष्टमी के जैसे ही राधाष्टमी का त्यौहार भी काफी धूमधाम से मनाया जाता है। राधाष्टमी के व्रत-पर्व पर राधारानी की महाभिषेक पूजा करने से घर-परिवार में सुख, समृद्धि, खुशहाली एवं एकात्मता की प्राप्ति होती है। पुराणिक कथाओं के अनुसार, राधाजी को प्रसन्न करने से भगवान कृष्ण अपने आप ही प्रसन्न होते है और भक्तों पर अपने शुभाशीष बरसाते हैं।

साक्षात महालक्ष्मी की परम कृपा दृष्टि प्राप्त करने, घर-परिवार में सुख, समृद्धि, ऐश्वर्य तथा वैभव प्राप्त करने, पारिवारिक जीवन में प्रेम तथा एकात्मता बढ़ाने तथा शादीशुदा महिलाओं द्वारा अखंड सौभाग्य के आशीष पाने के लिए दिनांक 23 सितम्बर 2023, शनिवार, भाद्रपद शुक्ल अष्टमी, श्री राधाजी के जन्मोत्सव के शुभ व्रत-पर्व पर श्री राधारानी मंदिर, बरसाना, वृन्दावन के आचार्यों द्वारा राधाष्टमी विशेष श्री राधारानी महाभिषेक पूजा का आयोजन किया गया है। राधारानी के साथ भगवान श्री कृष्ण के भी शुभाशीष पाने के लिए श्री मंदिर के माध्यम से इस महाभिषेक पूजा में भाग लें।

पूजा लाभ

puja benefits
साक्षात महालक्ष्मी की कृपा प्राप्ति
इस महाभिषेक पूजा के कारण भक्तों के घर-परिवार में साक्षात महालक्ष्मी की कृपा बरसती है, जिस से सभी प्रकार की आर्थिक परेशानियां दूर होकर सुख, समृद्धि, ऐश्वर्य और वैभव की प्राप्ति होती है।
puja benefits
पारिवारिक एकात्मता
पारिवारिक सदस्यों के बिच में प्रेम और एकात्मता बढ़ाने के लिए श्री राधाजी की अभिषेक पूजा अत्यंत लाभदायी तथा महत्वपूर्ण मानी जाती है।
puja benefits
अखंड सौभाग्य के आशीष
शादीशुदा महिलाओं के लिए यह महाभिषेक पूजा अखंड सौभाग्य के आशीष प्रदान करती है।
puja benefits
मनोकामना पूर्ती
इस महाभिषेक पूजा के कारण राधाजी के साथ भगवान श्री कृष्ण के शुभाशीष भी प्राप्त होते हैं, जिस से भक्तों की सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूर्ण होती है।

पूजा प्रक्रिया

Number-0

पूजा प्रसाद भेजा जाएगा

पूजा के प्रसाद को आपके द्वारा बताये पते पर भेजा जायेगा।
Number-1

श्री राधारानी महाभिषेक पूजा का वीडियो देखें

आपकी पूजा का वीडियो, आपके नाम और गोत्र के साथ, 3-4 दिनों में WhatsApp/ श्री मंदिर ऐप पर साझा किया जाएगा।
Number-2

अपनी पूजा का चयन करें

श्री राधारानी महाभिषेक पूजा के 4 पैकेजों में से अपनी पसंद की पूजा का चयन करें।
Number-3

पूजा संकल्प के लिए अपनी निजी सूचना दें

पूजा का चयन करने के बाद, आपको एक फ़ॉर्म प्रदान किया जायेगा, उसमे अपना नाम और गोत्र दर्ज करें।

श्री राधारानी मंदिर, बरसन,वृन्दावन

श्री राधारानी मंदिर, बरसन,वृन्दावन
उत्तर प्रदेश के बरसाना में स्थित राधा रानी का मंदिर, यह एक अति विशिष्ट हिन्दू धार्मिक स्थल है। यह मंदिर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश, मथुरा के बरसाने में स्थित है और यह मंदिर पूरी तरह से देवी राधा को समर्पित है। राधा रानी मंदिर एक पहाड़ी पर स्थित है, जिसकी ऊंचाई लगभग 250 मीटर है। इस पहाड़ी को बरसाने का माथा कहा जाता है एवं राधा रानी मंदिर को 'बरसाने की लाडली का मंदिर' और 'राधा रानी का महल' भी कहा जाता है। माना जाता है कि राधा रानी मंदिर मूल रूप से लगभग 5000 साल पहले राजा वज्रनाभ (कृष्ण के परपोते) द्वारा स्थापित किया गया था। कहा जाता है कि मंदिर खंडहर में बदल गया था तब प्रतीक नारायण भट्ट द्वारा फिर से इसे खोजा गया और 1675 ईस्वी में राजा वीर सिंह द्वारा एक मंदिर बनाया गया था। कहा जाता है कि मंदिर खंडहर में बदल गया था तब प्रतीक नारायण भट्ट द्वारा फिर से इसे खोजा गया और 1675 ईस्वी में राजा वीर सिंह द्वारा एक मंदिर बनाया गया था।

राधा रानी का जन्म जन्माष्टमी के 15 दिन बाद भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी को हुआ था। इसलिए देश-विदेश के लोगों के लिए यह जगह और दिन बहुत महत्वपूर्ण है। इस दिन राधा रानी के मंदिर को फूलों से सजाया जाता है। राधा रानी को छप्पन प्रकार के व्यंजन परोसे जाते हैं एवं राधारानी की महाभिषेक पूजा होती है। कहा जाता है की इस महापूजा के कारण भक्तों की सभी मनोकामनएं पूर्ण होती है एवं विवाहित महिलाओं को अखंड सौभाग्य का आशीष प्राप्त होता है।
आचार्य अबदेश कृष्ण
आचार्य अबदेश कृष्ण
15 साल के अनुभव के साथ पंडितजी

कैसा रहा श्री मंदिर पूजा सेवा का अनुभव?

क्या कहते हैं श्रद्धालु?
User review
User Image

जय राज यादव

दिल्ली
User review
User Image

रमेश चंद्र भट्ट

नागपुर
User review
User Image

अपर्णा मॉल

पुरी
User review
User Image

शिवराज डोभी

आगरा
User review
User Image

मुकुल राज

लखनऊ
User review
User Image

सुनील कुमार सैनी

चंडीगढ़

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों