भाद्रपद शुक्ल पंचमी विशेष ऋषि पंचमी महापूजा
भाद्रपद शुक्ल पंचमी विशेष ऋषि पंचमी महापूजा
भाद्रपद शुक्ल पंचमी विशेष ऋषि पंचमी महापूजा
भाद्रपद शुक्ल पंचमी विशेष ऋषि पंचमी महापूजा

भाद्रपद शुक्ल पंचमी विशेष ऋषि पंचमी महापूजा

temple venue
श्री प्राचीन सप्तऋषि मंदिर, उज्जैन
pooja date
Warning Infoइस पूजा की बुकिंग बंद हो गई है
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
अब तक2,00,000+भक्तोंश्री मंदिर द्वारा आयोजित पूजाओ में भाग ले चुके हैं

भाद्रपद शुक्ल पंचमी विशेष ऋषि पंचमी महापूजा

20 सितम्बर 2023, बुधवार, भाद्रपद शुक्ल पंचमी तिथि पर ऋषि पंचमी का महत्वपूर्ण पर्व है। जीवन में सुख, समृद्धि, सुख और सौभाग्य पाने, धार्मिक गलतियां एवं दोषों से मुक्ति पाने, सभी प्रकार के अक्षम्य पापों से मुक्ति पाने के लिए इस दिन ऋषि पंचमी महापूजा में भाग लेना चाहिए। इस खास दिन पर, उज्जैन के श्री सप्त ऋषि मंदिर में सप्त ऋषियों की महापूजा और भगवान शिव की महाभिषेक पूजा में भाग लें। इस महापूजा में शामिल होकर सप्त ऋषियों के आशीर्वाद से आप पापों से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं।

ऋषि पंचमी हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण दिन है, जो भाद्रपद शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। इस पावन दिन पर, सप्त ऋषियों की पूजा और भगवान शिव की अभिषेक पूजा की जाती है। ऋषि पंचमी की कथा के अनुसार, इस व्रत का पालन करने से महिलाओं की माहवारी के दौरान होने वाली धार्मिक गलतियों से मुक्ति मिलती है और उन्हें घर में सुख, शांति, समृद्धि, और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

पूजा लाभ

puja benefits
अक्षम्य पापों से मुक्ति
शास्त्रों के अनुसार ऋषि पंचमी व्रत के शुभ दिन पर सप्त ऋषियों की महापूजा एवं शिवजी की अभिषेक पूजा करने से जाने-अनजाने में हुए किसी भी प्रकार के अक्षम्य पापों से मुक्ति प्राप्त होती है।
puja benefits
अच्छी फसल के आशीष
मान्यता है कि ऋषि पंचमी व्रत महापूजा करने से आने वाले पूरे वर्ष में किसानों को अच्छी फसल के आशीष प्राप्त होते हैं और फसल की मौसम से जुड़ी सभी प्रकार के दुविधाओं से मुक्ति मिलती है।
puja benefits
सुख और समृद्धि की प्राप्ति:
इस महापूजा के कारण सभी प्रकार की नकारात्मकता दूर होकर, घर-परिवार में सुख, समृद्धि, शांति एवं सौभाग्य की प्राप्ति होती है।
puja benefits
महिलाओं के लिए शुभ फल दायक
अपने शास्त्रों में महिलाओं को माहवारी की तीन दिन की अवधि के दौरान धार्मिक गतिविधियों से परहेज करने की सलाह दी गई है। फिर भी अगर किसी भी महिला की माहवारी के दौरान अनजाने में कोई धार्मिक गलती हो गई हो, तो उस से उत्पन्न दोषों से छुटका

पूजा प्रक्रिया

Number-0

पूजा संकल्प के लिए अपनी निजी सूचना दें

पूजा का चयन करने के बाद, आपको एक फ़ॉर्म प्रदान किया जायेगा, उसमे अपना नाम और गोत्र दर्ज करें।
Number-1

अपनी पूजा का चयन करें

ऋषि पंचमी महापूजा के 4 पैकेजों में से अपनी पसंद की पूजा का चयन करें
Number-2

ऋषि पंचमी महापूजा का वीडियो देखें।

आपकी पूजा का वीडियो, आपके नाम और गोत्र के साथ, 3-4 दिनों में WhatsApp/ श्री मंदिर ऐप पर साझा किया जाएगा।
Number-3

पूजा प्रसाद भेजा जाएगा

पूजा के प्रसाद को आपके द्वारा बताये पते पर भेजा जायेगा

श्री प्राचीन सप्तऋषि मंदिर,उज्जैन

श्री प्राचीन सप्तऋषि मंदिर,उज्जैन
भगवान महाकाल की नगरी - उज्जैन में स्थापित श्री सप्त ऋषि मंदिर की स्थापना भगवान श्री कृष्ण ने लगभग 5000 वर्ष पूर्व की थी। स्कन्द पुराण के अवंतिका खंड में इस मंदिर की स्थापना से संबंधित उल्लेख प्राप्त होता है। कहा जाता है कि भगवान कृष्ण ने उनके गुरु ऋषि सांदीपनि के पुत्रों के आत्मा की मोक्ष प्राप्ति के लिए इस मंदिर की स्थापना की थी।

मान्यता के अनुसार इस मंदिर में ऋषि पंचमी विशेष महापूजा करने से जन्मोजन्म के दोष एवं पापों से मुक्ति मिलती है एवं श्राद्ध पक्ष के दौरान पितृ तर्पण करने से पितरों को भी मोक्ष गति की प्राप्ति होती है।
Pt. Ashish Bhatt
Pt. Ashish Bhatt
5 साल के अनुभव के साथ पंडितजी

कैसा रहा श्री मंदिर पूजा सेवा का अनुभव?

क्या कहते हैं श्रद्धालु?
User review
User Image

जय राज यादव

दिल्ली
User review
User Image

रमेश चंद्र भट्ट

नागपुर
User review
User Image

अपर्णा मॉल

पुरी
User review
User Image

शिवराज डोभी

आगरा
User review
User Image

मुकुल राज

लखनऊ

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों