श्री यमुनाष्टक स्तोत्र

श्री यमुनाष्टक स्तोत्र

मनुष्य को मिलती है सभी पापों से मुक्ति


श्री यमुनाष्टक स्तोत्र (Shri Yamunashtak Stotra)

हिंदू धर्म में यमुना नदी सिर्फ नदी मात्र ही नहीं हैं बल्कि यह गंगा नदी के समान आस्था व विश्वास का प्रतीक हैं। भारत में यमुना नदी को जीवनदायिनी नदी भी कहते हैं। यमुना जी को मां स्वरूप में पूजा जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, यमुना जी भगवान सूर्य की पुत्री व मृत्यु के देवता यमराज व शनि देव की बहन हैं। ये भगवान श्रीकृष्ण की पटरानी भी हैं। ब्रजवासी इन्हें यमुना मैया कहकर पुकारते हैं।

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को यम द्वितीया के नाम से जाना जाता है। इस दिन मृत्यु के देवता यम और उनकी बहन यमुना की पूजा की जाती है। कथा के अनुसार, इसी दिन यमुना जी के सत्कार से प्रसन्न होकर यमराज ने वरदान दिया था कि जो कोई यम द्वितीया के दिन यमुना नदी में स्नान करेगा उसे अकाल मृत्यु और नर्क की यातनाओं से मुक्ति मिल जाएगी। यम द्वितीया के दिन यमुना स्नान कर श्री यमुनाष्टक स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। ऐसा करने से मनुष्य के सभी प्रकार के रोग और दोष समाप्त हो जाते हैं और सुख सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

श्री यमुनाष्टक स्तोत्र का महत्व (Importance of Shri Yamunashtak Stotra)

पौराणिक अनुश्रुतियों के अनुसार, भुवनभास्कर सूर्य देवी यमुना के पिता, मृत्यु के देवता यम भाई और भगवान श्री कृष्ण देवी के परि स्वीकार्य किये गए हैं। जहां भगवान श्री कृष्ण ब्रज संस्कृति के जनक कहे जाते है, वहां देवी यमुना इसकी जननी मानी जाती हैं। इस प्रकार यह सच्चे अर्थों में ब्रजवासियों की माता है। देवी यमुना को प्रसन्न करने व उनका आशीर्वाद पाने के लिए यमुना नदी में स्नान करने के बाद श्री यमुनाष्टक स्तोत्र का पाठ किया जाता है। मान्यता है कि स्तोत्र का का पाठ करने से देवी यमुना जल्द प्रसन्न होती हैं, मनुष्य को आशीर्वाद प्राप्त होता है। श्री यमुनाष्टक स्तोत्र में 8 श्लोक हैं, जिनमें देवी यमुना की सुंदरता, उनकी शक्तियों के बारे में बताया गया है। स्तोत्र में देवी यमुना और श्रीकृष्ण के संबंध का भी वर्णन किया गया है।

श्री यमुनाष्टक स्तोत्र पढ़ने के फायदे (Benefits of reading Shri Yamunashtak Stotra)

यमुना नदी में स्नान करने से मनुष्य को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है।

रोजाना नियम से यमुना में स्नान के बाद यमुनाष्टकम् स्तोत्र का पाठ करने से मनुष्य का मन और चरित्र दोनों शुद्ध हो जाता है।

यमुना जी को ब्रजवासियों की मां के रूप में माना जाता है। इसलिए यमुनाष्टकम् स्तोत्र का पाठ करने से भक्तों पर भगवान कृष्ण की विशेष कृपा होती है।

मां यमुना के आशीर्वाद से मनुष्य की हर मनोकामना पूर्ण होती है।

यमुनाष्टक स्तोत्र का नियमित रूप से रोजाना पाठ करने से मनुष्य को जीवन में वैभव की प्राप्ति होती है।

श्री यमुनाष्टक स्तोत्र का हिंदी अर्थ (hindi meaning of Shri Yamunashtak Stotra)

मुरारिकायकालिमाललामवारिधारिणी तृणीकृतत्रिविष्टपा त्रिलोकशोकहारिणी । मनोऽनुकूलकूलकुञ्जपुञ्जधूतदुर्मदा धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥

देवी यमुना आपकी नदी का जल मुरारी (श्रीकृष्ण) के शरीर के सुंदर अंधकार को धारण करता है, (श्रीकृष्ण के स्पर्श के कारण) स्वर्ग को घास के तिनके की तरह महत्वहीन बना देता है और तीनों लोकों के दुखों को दूर करने के लिए आगे बढ़ता है, आपके नदी तटों पर मनमोहक उपवन हैं जो हमारे अहंकार को झकझोर कर दूर कर देते हैं, हे कालिंदा नंदिनी, कृपया मेरे मन की अशुद्धियों को हमेशा के लिए दूर कर दो।

मलापहारिवारिपूरिभूरिमण्डितामृता भृशं प्रवातकप्रपञ्चनातिपण्डितानिशा । सुनन्दनन्दिनाङ्गसङ्गरागरञ्जिता हिता धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥ २॥

देवी यमुना, आपकी नदी का पानी जो अशुद्धियों को दूर कर देता है, जो भरपूर मात्रा में अमृत जैसे गुणों से भरा हुआ है, जो पापियों के अंदर बैठे पापों को खत्म कर देता है, जो पुण्यात्मा नन्द गोप के पुत्र के स्पर्श से रंजित होने के कारण अत्यन्त कल्याणकारी है, हे कालिंदा नंदिनी, कृपया मेरे मन की अशुद्धियों को हमेशा के लिए धुल डालो।

लसत्तरङ्गसङ्गधूतभूतजातपातका नवीनमाधुरीधुरीणभक्तिजातचातका । तटान्तवासदासहंससंसृताह्निकामदा धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥ ३॥

देवी यमुना, आपकी चमकती और चंचल लहरों का स्पर्श जीवित प्राणियों में बढ़ते पापों को धो देता है, आपके नदी तट पर कई चातक पक्षी रहते हैं जो भक्ति से पैदा हुई ताज़ा मिठास रखते हैं, आप कई हम्साओं की इच्छाएं पूरी करती हैं, जो आपके नदी तटों की सीमा पर एकत्रित होते हैं और निवास करते हैं, हे कालिंदा नंदिनी, कृपया मेरे मन की अशुद्धियों को सदैव के लिए धो डालो।

विहाररासस्वेदभेदधीरतीरमारुता गता गिरामगोचरे यदीयनीरचारुता । प्रवाहसाहचर्यपूतमेदिनीनदीनदा धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥ ४॥

देवी यमुना, आपके शांत नदी तट पर बहती हवा अतीत और रसलीला की यादें और अलगाव की पीड़ा से जुड़ी है, आपकी नदी के पानी की सुंदरता बयां की जाने वाली सीमा से कहीं अधिक है, आपके जल प्रवाह के संयोग से पृथ्वी तथा अन्य नदियाँ भी पवित्र हो गयी हैं, हे कालिंदा पर्वत की बेटी नंदिनी, कृपया मेरे मन से हमेशा अशुद्धियों को दूर करें।

तरङ्गसङ्गसैकतान्तरातितं सदासिता शरन्निशाकरांशुमञ्जुमञ्जरी सभाजिता । भवार्चनाप्रचारुणाम्बुनाधुना विशारदा धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥ ५॥

देवी यमुना, आपकी बहती लहरों के संपर्क में रहने से आपके घुमावदार आंतरिक रेत के तट हमेशा चमकते रहते हैं, शरद ऋतु की रात में सुंदर चंद्रमा की किरणों से आपके नदी-शरीर और नदी-तटों की चमक बढ़ जाती है, आप अपने पवित्र जल से धोकर संसार को सजाने का काम करती हैं, हे कालिंदा नंदिनी, कृपया मेरे मन की अशुद्धियों को सदैव के लिए धो डालो।

जलान्तकेलिकारिचारुराधिकाङ्गरागिणी स्वभर्तुरन्यदुर्लभाङ्गताङ्गतांशभागिनी । स्वदत्तसुप्तसप्तसिन्धुभेदिनातिकोविदा धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥ ६॥

देवी यमुना, आपकी नदी-शरीर उस सुंदर राधारानी के स्पर्श से रंगी हुई है जो आपके जल में खेलती थीं, आप उस पवित्र स्पर्श से दूसरों का पोषण करती हैं, जिसे प्राप्त करना बहुत कठिन है, आप उस पवित्र स्पर्श को सप्त सिंधु के साथ चुपचाप साझा करती हैं, आप भेदन में विशेषज्ञ हैं, हे कालिंदा नंदिनी, कृपया मेरे मन से हमेशा अशुद्धियों को दूर करें।

जलच्युताच्युताङ्गरागलम्पटालिशालिनी विलोलराधिकाकचान्तचम्पकालिमालिनी । सदावगाहनावतीर्णभर्तृभृत्यनारदा धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥ ७॥

देवी यमुना, आपकी नदी-शरीर पर अच्युत के शरीर से रंग गिर गया है जब वह मधुमक्खियों की तरह झुंड में आने वाली भावुक महिलाओं के साथ खेलता था और मधुमक्खी जैसे कैम्पका फूल भी, जो राधारानी के लटकते बालों की माला बनाते थे, आपके नदी-तट पर, भगवान के सेवक, ऋषि नारद हमेशा स्नान करने के लिए आते हैं, हे कालिंदा नंदिनी, कृपया मेरे मन से हमेशा अशुद्धियों को दूर करें।

सदैव नन्दिनन्दकेलिशालिकुञ्जमञ्जुला तटोत्थफुल्लमल्लिकाकदम्बरेणुसूज्ज्वला । जलावगाहिनां नृणां भवाब्धिसिन्धुपारदा धुनोतु नो मनोमलं कलिन्दनन्दिनी सदा ॥ ८॥

देवी यमुना, आपके नदी-तट पर सुन्दर उपवन हैं, जिनमें नन्द का पुत्र हमेशा खेलता रहता है, आपका नदी तट मल्लिका और कदम्ब के फूलों के पराग से चमक रहा है, जो मनुष्य आपकी नदी के जल में स्नान करते हैं, आप उन्हें भवसागर से पार उतार देती हैं, हे कलिंदा पर्वत की बेटी नंदिनी, कृपया मेरे मन से हमेशा के लिए अशुद्धियों को दूर करें।

श्री मंदिर द्वारा आयोजित आने वाली पूजाएँ